what is loans,Secured loans,Home loans, loan against property (lap), Loan against insurance policies, Gold loans , Loans against mutual funds and shares , Loan against fixed deposits, Personal loans , Short term business loans,Education loans ,Flexi loans,Types of secured loans,Top Housing Finance Companies in India,लोन कितने प्रकार का होता है types of loan in india, / Different types of bank loans, लोन कैसे प्राप्त करें, Vehicle loans,
what is loans,Secured loans,Home loans, loan against property (lap), Loan against insurance policies, Gold loans , Loans against mutual funds and shares , Loan against fixed deposits, Personal loans , Short term business loans,Education loans ,Flexi loans,Types of secured loans,Top Housing Finance Companies in India,लोन कितने प्रकार का होता है types of loan in india, / Different types of bank loans, लोन कैसे प्राप्त करें, Vehicle loans,

Enter your email address: कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई भी अवश्य करें

कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई करें

what is loans

what is loans – दोस्तों नमस्कार लोन शब्द से तो आप अवश्य परिचित होंगे क्योंकि लोन शब्द पिछले कुछ सालों से समाचारों की सुर्खियों में हैं हर व्यक्ति को हर कदम पर पैसों की जरूरत होती है जब पैसों की जरूरत एक साथ आन पड़े जैसे Different types of bank loans

  • बच्चों की शादी,
  • प्लॉट खरीदने के लिए लोन,
  • मकान बनाने के लिए लोन
  • किसी का इलाज करवाने के लिए लोन ,
  • पढ़ाई के लिए लोन,
  • अपनी किसी अन्य जरूरतों को पूरा करने के लिए लोन ,
  • बिजनेस शुरू करने के लिए लोन
  • बिजनेस को बढ़ाने के लिए लोन,
  • मोटरसाइकिल खरीदने के लिए टू व्हीलर लोन,
  • कार खरीदने के लिए लोन,
  • पर्सनल लोन आदि

व्यक्ति अपनी उपरोक्त जरूरतों को पूरा करने के लिए पैसा एकत्र करता है इसके लिए या तो वह सूदखोरों के पास जाकर पैसे लेता है जिसमें उसे काफी सारा ब्याज देना पड़ता है जैसे 10% से 20 % या इससे भी अधिक और यह ब्याज उसे हर महीने का दिन होता है कभी-कभी लोगों की जरूरत है ऐसी होती है कि उसे मजबूरी में सूदखोर की मनमानी ब्याज दर पर पैसा लेना पड़ता है Nicotine gum निकोटेक्स (Nicotex In Hindi): उपयोग,फायदे, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स,… और पैसे लेकर वह सूदखोरों के भंवर जाल में फंस जाता है और कई साल इस झमेले में फंसा रहता है इसका सबसे बड़ा कारण है लोग बैंकों की कागजी कार्यवाही में फंसना नहीं चाहते कभी बैंक से लोन लेने की इच्छा होती भी है तो बैंक वालों का ढोलमोल रवैया देखकर परेशान होकर बैंक से लोन लेने की इच्छा छोड़ देते हैं क्योंकि उन्हें लोन के बारे में जानकारी नहीं होती कि लोन कितने तरह के होते हैं बैंक से लोन कैसे लिया जाता है बैंक लोन किस ब्याज दर पर देते हैं आदि लेकिन आप आज इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद अपने सारे डाउट क्लियर कर पाएंगे कि बैंक से लोन कैसे लिया जाता है BENEFITS OF CRED APP IN HINDI credit card to bank transfer… बैंक लोन कितने प्रकार के होते हैं तो चलिए शुरू करते हैं Different types of bank loans

Types of loans in hindi दोस्तों भारत में लोन को तीन मुख कैटेगरी में बांटा गया है Different types of bank loans

Secured loans

Secured loans – सिक्योर्ड लोन के अंतर्गत निम्न कैटेगरी के लोन आते हैं

  • Home loans
  • loan against property (lap)
  • Loan against insurance policies
  • Gold loans
  • Loans against mutual funds and shares
  • Loan against fixed deposits

Unsecured loans

Unsecured loans – अनसिक्योर्ड लोन के अंतर्गत निम्न कैटेगरी के लोन आते हैं

  • Personal loans
  • Short term business loans

Flexi loans

Flexi loans – फ्लेक्सी लोन के अंतर्गत निम्न प्रकार के लोन आते हैं

  • Education loans
  • Vehicle loans

सिक्योर लोन Secured loans – सिक्योर्ड लोन वह लोन होते हैं जिसके बदले में आपको बैंक या वित्तीय संस्थान के पास कुछ ना कुछ सिक्योरिटी के रूप में रखना पड़ता है जैसे कि प्रॉपर्टी के पेपर अपनी इंश्योरेंस पॉलिसी सोना म्युचुअल फंड या शेयर या फिर अपने फिक्स डिपाजिट आदि इस तरह के लोन में बैंक का पैसा सुरक्षित होता है और बैंक आपको लोन देते समय आप की प्रॉपर्टी या फिर किसी अन्य सिक्योरिटी को बेचने का अधिकार आप से ले लेते हैं इस तरह के लोन सिक्योर्ड लोन या सुरक्षित ऋण कहलाते हैं। Different types of bank loans गिलोय के फायदे तथा नुकसान गिलोय सेवन करने का सही तरीका

Types of secured loans

गृह ऋण Home loans

what is loans,Secured loans,Home loans,  loan against property (lap),  Loan against insurance policies,  Gold loans , Loans against mutual funds and shares , Loan against fixed deposits, Personal loans , Short term business loans,Education loans ,Flexi loans,Types of secured loans,Top Housing Finance Companies in India,लोन कितने प्रकार का होता है  types of loan in india, / Different types of bank loans,  लोन कैसे प्राप्त करें, Vehicle loans,

होम लोन कितने प्रकार का होता है – होम लोन सिक्योर्ड लोन का एक प्रकार है जो कि आपको अपनी पसंद का घर खरीदने तथा घर बनाने के लिए ऋण या लोन प्रदान करता है भारत में निम्न प्रकार के होम लोन उपलब्ध हैं जैसे Narco Test नार्को टेस्ट क्या होता है कैसे होता है?

  • भूमि खरीद ऋण land purchase loans- इस लोन में आप अपने नए घर को बनाने के लिए जमीन खरीद सकते हैं ।
  • गृह निर्माण ऋण Home construction loans- इस तरह के ऋण में आप अपने मकान को बनाने के लिए ऋण ले सकते हैं ।
  • होम लोन बैलेंस ट्रांसफर – इस तरह के लोन में आप मौजूदा होम लोन का बैलेंस कम ब्याज दर पर ट्रांसफर कर सकते हैं।
  • टॉप अप लोन Top up loans – इस तरह के लोन में आप अपने मौजूदा लोन पर कुछ और धन ले सकते हैं इस तरह के लोन को टॉप अप लोन कहा जाता है ।

Note – एक नई संपत्ति खरीदते समय कोई घर खरीदते समय ऋण दाता को आपकी संपत्ति के मूल्य का कम से कम 10 से 20% भुगतान करने की आवश्यकता होती है तथा बाकी पैसा आपको ऋण के रूप में दिया जाता है। नेटवर्क मार्केटिंग या डायरेक्ट सेलिंग क्या होती है Top 10 best Direct selling company…

Top Housing Finance Companies in India

Loan against property (LAP)

Loan against property (LAP) – जैसा कि नाम से ही समझ में आ रहा है lap यानी लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी यानी संपत्ति के बदले ऋण जहां आप अपनी जरूरत के हिसाब से अपनी संपत्ति के बदले बैंक या फिर किसी वित्तीय संस्थान से ऋण ले सकते हैं इसमें आप अपनी संपत्ति का 50% से 80% तक बैंक से लोन ले सकते हैं और लक्ष्यों को पूरा कर सकते हैं जैसे कि बच्चों की उच्च शिक्षा, शादी, व्यवसाय विस्तार, या फिर किसी अन्य कार्य हेतु।

Loan against insurance policies

Loan against insurance policies– इस तरह के लोन में आप अपनी बीमा पॉलिसी के बदले ऋण ले सकते हैं जी हां सही पढ़ा आपने बीमा पॉलिसी के बदले ऋण लेकिन ध्यान देने योग्य बात यह भी है कि सभी बीमा पॉलिसी इस तरह के लोन के योग्य नहीं होती हैं केवल वही पॉलिसी जिसमें परिपक्वता यानी मेच्योर अमाउंट होता है उन बीमा पॉलिसी का उपयोग ऋण लेने के लिए किया जा सकता है जैसे एंडोमेंट और मनी बैक पॉलिसी आदि लेकिन आप टर्म इंश्योरेंस प्लान पर लोन नहीं ले सकते क्योंकि इसमें परिपक्वता वैल्यू नहीं होती है तथा साथ ही यूनिट लिंक योजनाओं पर भी लोन नहीं लिया जा सकता क्योंकि इनमें रिटर्न निश्चित नहीं होता है वह बाजार के प्रदर्शन पर निर्भर करता है। How to Improve Eyesight without surgery in easy 5 Steps (100% Guaranteed)

सोने पर ॠण Gold loans

सोने पर ॠण Gold loans– सोने में निवेश करना बुरे समय के लिए सोने के रूप में पूंजी इकट्ठी करना पुराने समय से ही भारतीयों की पसंद रहा है सोने को एक सुरक्षित निवेश माना जाता है गोल्ड लोन के लिए सोना, सोने के सिक्के, आभूषण आदि बैंक या वित्तीय संस्थान में गिरवी रखने होते हैं फिर आपके सोने की वैल्यू की राशि पर एक निश्चित प्रतिशत पर लोन अमाउंट मंजूर किया जाता है।

म्युचुअल फंड तथा शेयरों के बदले लोन loans against mutual funds and shares

म्युचुअल फंड तथा शेयरों के बदले लोन loans against mutual funds and shares– इस तरह के लोन में शेयर या म्यूचल फंड की यूनिटों को किसी बैंक या वित्तीय संस्थान में गिरवी रखकर उनके बदले लोन लिया जाता है जिनमें इक्विटी और हाइब्रिड फंड मुख्य हैं शेयर्स या म्यूचुअल फंड के बदले में लोन लेने के लिए आपको अपने फाइनेंसर को लिखित में कुछ राइट देने होते हैं और लोन एग्रीमेंट पर सहमति देनी होती है उसके बाद फाइनेंसर म्यूचल फंड रजिस्ट्रार से एक निश्चित संख्या में यूनिट पर राइट्स मांगता है इस तरह आप शेयर और म्यूचल फंड यूनिट के बदले उनकी वैल्यू का 60% से 70% मूल लोन के रूप में प्राप्त कर सकते हैं।

सावधि जमा के बदले ॠण loans against fixed deposits

सावधि जमा के बदले ॠण loans against fixed deposits– FD एक सुनिश्चित रिटर्न प्रदान करने वाली योजना है इसलिए आप FD पर भी लोन ले सकते हैं एफडी की वैल्यू से 70% से 90% के या फिर bank-to-bank यह प्रतिशत अलग-अलग भी हो सकता है आप लोन ले सकते हैं हालांकि एफडी से लोन में ध्यान रखने वाली बात यह है कि लोन की अवधि FD की अवधि से ज्यादा नहीं हो सकती है ।

असुरक्षित ॠण Unsecured loans

असुरक्षित ॠण Unsecured loans– इस तरह के लोन लेने के लिए आपको अपनी संपत्ति एफडी गोल्ड या कोई अन्य चीज गिरवी नहीं रखनी होती है इस तरह के लोन देने से पहले बैंक या वित्तीय संस्थान आप का पिछला रिकॉर्ड आप का क्रेडिट स्कोर सिविल स्कोर आदि के आधार पर आपको लोन देते हैं इस तरह के लोन का लाभ उठाने के लिए आपके पास एक अच्छा क्रेडिट स्कोर होना बहुत जरूरी है हालांकि इस तरह के लोन अन्य लोन से अधिक महंगे ब्याज दरों पर मिलते हैं।

Types of Unsecured loans

व्यक्तिगत ॠण Personal loans

व्यक्तिगत ॠण Personal loans– पर्सनल लोन या व्यक्तिगत ऋण काफी ज्यादा लोकप्रिय है तथा असुरक्षित लोन अनसिक्योर्ड लोन में से एक है क्योंकि इसमें आपकी कोई प्रॉपर्टी आदि गिरवी नहीं रखी जाती है आपके पिछले रिकॉर्ड क्रेडिट स्कोर आदि को देख कर दिया जाता है इसीलिए पर्सनल लोन अन्य लोन की अपेक्षा महंगी ब्याज दरों पर दिए जाते हैं पर्सनल लोन को पारिवारिक शादी के खर्चों को पूरा करने में छुट्टियों में घूमने के खर्च में घर के नवीनीकरण में बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए या किसी अर्जेंट खर्चों के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

List of Top 10 Personal Loan Lending Companies in India

कम समय का व्यापारिक ॠण Short term business loans

कम समय का व्यापारिक ॠण Short term business loans – कम समय के लिए व्यापारिक लोन शॉर्ट टर्म बिजनेस लोन भी असुरक्षित लोन हैं व्यवसायिक विस्तार और दैनिक खर्चों की पूर्ति के लिए कम समय के लिए व्यापारिक ॠण बैंक की ओर से दिया जाता है इसके अंतर्गत निम्न प्रकार के लोन आते हैं जैसे पूंजी ऋण मशीनरी ऋण Msme एमएसएमई के लिए लघु व्यवसाय ॠण महिला उद्यमियों के लिए ऋण व्यापारियों के लिए ऋण निर्माताओं के लिए ॠण सेवा उद्यमों के लिए ऋण

फ्लेक्सी ऋण Flexi Loans

फ्लेक्सी ऋण
एक सुविधा जिसके तहत आप अपनी स्वीकृत सीमा से धनराशि का उपयोग कर सकते हैं और जब आवश्यक हो और केवल उपयोग की गई राशि पर ब्याज का भुगतान कर सकते हैं। आप अपनी ऋण सीमा, किसी भी समय और पूर्व-भुगतान पर निकाल सकते हैं, जब आपके पास अतिरिक्त नकदी हो, बिना किसी अतिरिक्त लागत के। इस तरह की एक अनोखी सुविधा आपको कठोर ऋणों के विपरीत अपने वित्त के पूर्ण नियंत्रण में रहने की स्वतंत्रता देती है और आपको 45% तक की आपकी ईएमआई पर बचत प्रदान करती है। यहां, आपके पास केवल ईएमआई के रूप में ब्याज का भुगतान करने का विकल्प है, जो कि कार्यकाल के अंत में देय है।

इनका उपयोग किस आधार पर किया जाता है, इस आधार पर ऋण को मुख्य रूप से वर्गीकृत किया जाता है:

Types of Flexi Loans

शिक्षा ऋण Education loans

  1. शिक्षा ऋण
    प्रतिष्ठित संस्थानों से उच्च शिक्षा की आकांक्षा ने देश में शिक्षा ऋण की मांग को बढ़ा दिया है। यह ऋण पाठ्यक्रम की मूल फीस के साथ-साथ आवास, परीक्षा शुल्क आदि जैसे अन्य खर्चों को भी शामिल करता है। इस ऋण में छात्र मुख्य उधारकर्ता होते हैं जबकि माता-पिता, भाई-बहन और पति-पत्नी सह-आवेदक होते हैं।

प्रबंधन, इंजीनियरिंग और चिकित्सा के क्षेत्र में स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम के साथ पूर्णकालिक, अंशकालिक या व्यावसायिक पाठ्यक्रम के लिए एक शिक्षा ऋण लिया जा सकता है। कोर्स पूरा होते ही छात्र द्वारा ऋण चुकाया जाना चाहिए।

एक शिक्षा ऋण की एक अनूठी विशेषता अधिस्थगन अवधि है, जिसमें छात्र को कोर्स पूरा करने के 12 महीने बाद तक या 6 महीने बाद / वह काम करना शुरू कर देता है, जो भी पहले हो, ईएमआई का भुगतान नहीं करने का विकल्प होता है।

वाहन ऋण Vehicle loans

  1. वाहन ऋण
    एक वाहन ऋण दो या चार-पहिया ऋण के रूप में बढ़ाया जाता है जो आपको अपने सपनों के वाहन को खरीदने में मदद करता है। वाहन ऋण की पेशकश या तो एक नए वाहन की खरीद पर की जाती है या एक प्रयोग किया जाता है। आपका क्रेडिट स्कोर, आय का ऋण अनुपात, लोन टेनर इत्यादि, ऋण राशि निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Enter your email address: कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई भी अवश्य करें

कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here